Flag counter Chidiya

Flag Counter

Thursday, August 4, 2016

एक रोमांचक अनुभव


एक रोमांचक अनुभव


श्रावण महीने का दूसरा रविवार...मेरी बहनों ने भीमाशंकर जाने का प्रोग्राम बनाया। मेरी भी कई बरसों की इच्छा पूरी हुई। हमारा आठ लोगों का ग्रुप बन गया था। मेरे और मेरी छोटी बहन के पति, एक सहेली, बहन और सहेली की सास को मिलाकर ।

  सुबह के ताजगीभरे समय में यात्रा करने का अलग ही मजा होता है।उसपर बारिश लगातार हो रही थी।रास्ते की हरियाली, मालशेज घाट के झरने और जंगल का सौंदर्य निहारते हम भीमाशंकर पहुँच गए जो बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है।

   बारिश से बचने के लिए वहाँ छाता कोई काम नहीं आता, तेज हवा से उलट जाता है। खैर भीगते-भीगते हम मंदिर पहुँचे।मंदिर पहाड़ों से घिरा हुआ है। बादल जैसे धरती पर उतर आए थे। आप से पाँच-छः फुट दूर खड़ा इंसान आपको न दिख सके, इतनी धुंध !

    बड़ी देर तक कतार में लगकर हम मंदिर के अंदर पहुँचने ही वाले थे कि कुछ लोग चिल्लाए, "साँप, साँप...!" लोग घबराहट में लोहे की रेलिंग पर चढ़ने लगे, जो अक्सर मंदिरों में कतार में खड़े रहने के लिए बनाई जाती है। घबरा तो मैं भी गई मगर अचानक किसी दैवी प्रेरणा से मैंने लोगों को भगदड़ मचाने से रोकना शुरु किया ।

   लोग जहाँ से जगह मिले, भागने की कोशिश में थे।बूढ़े और बुजुर्ग लोग भी थे वहाँ। मैं और मेरी सहेली लोगों को चिल्ला-चिल्लाकर नीचे उतरने और भगदड़ न मचाने के लिए प्रार्थना करते रहे । लोगों पर हमारी बात का असर हो रहा था क्योंकि मैंने उनसे कहा कि साँप काटने से कोई मरे ना मरे, भगदड़ मच गई तो कितनों की जान जाएगी ?

     ओम नमः शिवाय का जोर-जोर से जाप करते लोगों ने देखा कि साँप ने हजारों की भीड़ में से अपना रास्ता बना लिया और मंदिर की दीवार के नीचे एक छेद में गुम हो गया ।

   लोगों की समझदारी से कहें या ईश्वर की महिमा से, पर कोई अप्रिय घटना नहीं हुई । मैंने मन ही मन ईश्वर को धन्यवाद दिया।
------------------------------------------------------------