Friday, August 12, 2016

पेड़ - एक अमानत

ठहरो, कुल्हाड़ी ना चलाओ !
इसकी बलि लेकर पाप ना कमाओ !
एक साधारण सा पेड़ है ये तुम्हारे लिए !
पर क्या जानते हो,
पेड़ कभी साधारण नहीं होता !!!!!

पेड़.....
एक कविता है,
माटी की रची हुई,
सँभालकर रखो उसे
बाँचनी है अगली पीढ़ियों को भी।

पेड़....
एक गीत है,
पंछियों के सुरीले कंठ का,
लिखकर रखो उसे
गाना है अगली पीढ़ियों को भी।

पेड़....
एक चित्र है,
किसी अनजान चित्रकार का,
फीका ना पड़ने दो,
निरखना है अगली पीढ़ियों को भी।

पेड़....
एक मूर्ति है,
जग के निर्माता की,
सुरक्षित रखो उसे
दर्शन करने हैं अगली पीढ़ियों को भी।

पेड़....
एक विरासत है,
धरती की अमानत है,
सँजोकर रखो उसे
सौंपनी है अगली पीढ़ियों को।

पेड़... 
धरती की साँसें हैं,
पेड़ बचेंगे तो धरती बचेगी,
धरती बचेगी तो तुम बचोगे,
याद रखो,
ये अगली पीढ़ियों की अमानत है
पेड़ कभी साधारण नहीं होता !!!!!
---------------------------------------