Flag counter Chidiya

Flag Counter

Thursday, September 15, 2016

जीने की जिद मैं करती हूँ !


जीने की जिद मैं करती हूँ !

हाँ ! अपने कुछ जख्मों को 
सीने की जिद मैं करती हूँ !
नारी हूँ तो नारी - सा 
जीने की जिद मैं करती हूँ !

कोमल हूँ कलियों से भी 
पर पत्थर से कठोर भी हूँ
रहस्यमयी रजनी सी मैं, 
चैतन्यमयी भोर सी हूँ
अब अपने जज्बातों को, 
कहने की जिद मैं करती हूँ !
नारी हूँ तो नारी सा...

मुझको नहीं पुरुष से स्पर्धा, 
अपने ऊपर है विश्वास
नहीं ! मैं नहीं वह सीता, 
जो झेल सके दो - दो वनवास
अपने अधिकारों को अब, 
पाने की जिद मैं करती हूँ !
नारी हूँ तो नारी सा...

अबला की गिनती में आना, 
अब मुझको स्वीकार नहीं
शांत, विनम्र, मधुर, ममतामय 
हूँ लेकिन लाचार नहीं
हर दुर्योधन, दुःशासन से, 
लड़ने की जिद मैं करती हूँ !
नारी हूँ तो नारी सा...
---------------------------------------------------------