Flag counter Chidiya

Flag Counter

Wednesday, January 11, 2017

पाषाण


पाषाण

सुना है कभी बोलते,
पाषाणों को ?
देखा है कभी रोते ,
पाषाणों को ?

कठोरता का अभिशाप,
झेलते देखा है ?
बदलते मौसमों से,
जूझते देखा है ?
पाषाणों से फूटते फव्वारें
देखे हैं कभी ?

कौन कहता है
पाषाणों मे दिल नहीं होते ?

रोते हैं पाषाण
जब बन जाते हैं वे,
किसी के
खून बहाने का जरिया...
चीखते हैं पाषाण
जब टूटते - बिखरते हैं,
मानव के क्रूर हाथों,
अथवा गढ़े जाते हैं
मूक मूर्तियों में.

कौन करता है परवाह
उनकी चाहत की?
कोई पूछे तो सही
उनको क्या बनना है ?

खामोश रहते हैं पाषाण,
होते हैं जब जिंदा दफन,
नींव का पत्थर बनकर.
नहीं माँगते हक अपना,
इठलाती-इतराती इमारतों से.

घोंट देते हैं गला,
अपनी इच्छाओं का
बलिदान हो जाते हैं
पराए सौंदर्य को
सँभालने - सँवारने में.

कौन कहता है
पाषाणों मे दिल नहीं होते ?

मुस्कुरा देते हैं पाषाण
जब कहती है कोई प्रेयसी,
अपने प्रियतम को
----”पत्थर दिल”’
और तब भी जब
कोई इंसान पा जाता है
पत्थर की उपाधि

बह जाते हैं पाषाण
नदियों के प्रवाह संग
घिसते - छीजते हैं बरसों,
तब जाकर पाते हैं
रूप शालिग्राम का
और कहलाते हैं -- 
 'स्वयंभू' ....

कौन कहता है
पाषाणों मे दिल नहीं होते ?