Flag counter Chidiya

Flag Counter

Saturday, January 14, 2017

दास्ताँ लिख लूँ....

फिर चले आओ अजनबी बनकर,
फिर तुम्हें अपना रहनुमा लिख लूँ ।

तुम जो नजरों की जुबाँ में पढ़ लो,
मैं तुम्हें पहला खत अपना लिख लूँ ।

तुम लिखो दिल में, मेरी यादों को,
और मैं तुमको भूलना लिख लूँ ।

थोड़े नादान हैं अल्फाज मेरे,
तुम कहो तो, मैं बचपना लिख लूँ ।

जिद करो तुम  मुझे मनाने की,
आज मैं तुमसे रूठना लिख लूँ ।

जो उमड़ आई है पलकों के तले,
उस घटा का मै बरसना लिख लूँ ।

वक्त उड़ता है पंछियों की तरह,
चंद लम्हों में भला क्या लिख लूँ ।

चले जाना, ज़रा ठहर जाओ,
जो है बाकी वो, दास्ताँ लिख लूँ ।