Flag counter Chidiya

Flag Counter

Saturday, January 7, 2017

अग्निपरीक्षा

कितने ही युग बीत गए
समय के प्याले भरे,
और रीत गए....
किन्तु नहीं बदला
आज भी रिवाज
स्त्री की अग्निपरीक्षा का !

पुरुष कोई राम नहीं,
हक़ फिर भी है उसे
अग्निपरीक्षा लेने का
स्त्री कोई सीता नहीं,
धैर्य फिर भी है उसमें
अग्निपरीक्षा देने का !

वह परीक्षा नहीं थी
सीता के सतीत्व की,
वह था  प्रमाण केवल
राम के प्रति प्रेम का...
समाना था धरा में ही
क्या पहले, क्या बाद में ?

अब मेरी बारी है
सह लूँगी, कहूँगी नहीं...
विश्वास है, खरी उतरूँगी
हर परीक्षा में !
धरा में समाने से
रोक तो पाओगे न ?