Friday, November 3, 2017

बोल, क्या नहीं तेरे पास ?

बोल, क्या नहीं तेरे पास ?

यह मनु-तन पाया
हर अंग बहुमूल्य,
सद्गुणों से बन जाए
तू देवों के तुल्य !
वाणी मणिदीप है,
तो बुद्धि है प्रकाश !!!

बोल क्या नहीं तेरे पास ?

देख उन सजीवों को
तू जिनसे बेहतर !
घुट घुटकर जीना है,
मरने से बदतर !
खींचकर निकाल दे,
मन की हर फाँस !

बोल, क्या नहीं तेरे पास ?

मानव का जन्म मिला
सबसे अनमोल,
हीरों को कंकड़ों संग
तराजू ना तोल !
सोच जरा, समझ जरा
क्यों है निराश ?

बोल, क्या नहीं तेरे पास ?

उठ सत्वर ! कर्म कर,
आलस को त्याग कर,
तपता, जलता है ज्यों
जगहित दिनकर !
कुछ स्व का, कुछ पर का,
किए जा विकास !

बोल, क्या नहीं तेरे पास ?