Saturday, March 10, 2018

चलो ना !!!

इस जनम की तरह
हर जनम में, 
अनगिनत जन्मों की,          
अनंत यात्रा के पथ पर 
तुम साथ चलो ना !

चलो लगा लें फिर फेरे,
अग्निकुंड के नहीं,     
अखिल ब्रह्मांड के !
साक्षी होंगे इस बार
वह धधकता सूर्य,
ग्रह, चाँद, तारे !

इक दूजे को आज नए               
वचनों में बाँध चलो ना!
पथ पर साथ चलो ना !

ना तुम अनुगामी
ना मैं अवलंबित,
एक राह के हम पथिक ! 
तो इक दूजे का लेकर
हाथों में हाथ, चलो ना !
पथ पर साथ चलो ना !

देह के दायरों से परे
मन से मन का मिलन,
नई रीत का प्रतीक !
मैं लिखूँ , तुम रचो
तुम लिखो, मैं रचूँ
नए काव्य - नए गीत !

साथी, सहयात्री बनकर, 
दिन औ' रात, चलो ना !
पथ पर साथ चलो ना !!!