Wednesday, July 11, 2018

जल - तरंग


बादलों से नेह का निर्झर बहा
बहककर मचल उठी चंचल हवा !

मोतियों से धरा का आँचल भरा
मन मयूर हो प्रफुल्ल, नाचता !

पर्वतों से फूट पड़ा मधुर नाद
पंछियों के सज गए संगीत साज !

वादियों में गीत बहें कल-कल कर
माटी में बीज जगें, अँगड़ाकर !

विचित्र सा, कौन चित्रकार यह ?
बदल रहा, रंग छटाएँ रह - रह !

और  लो, बिखर गया वह हरा रंग
कण-कण में बज उठी, जल - तरंग !